घबराहट और बेचैनी होना आम बात है लेकिन अगर किसी को हर समय घबराहट और बेचैनी बनी रहती है तो यह एक बड़ी समस्या हो सकती है आजकल के  बढ़ते मानसिक दबाव की वजह से हर कोई तेजी से इस रोग के शिकार हो रहे है बच्चो  से लेकर हर उम्र के लोग इस समस्या का शिकार हो रहे है.

एक ऐसा रोग है, जिसमे कोई घबराहट और बेचैनी होने की वजह से उसके मन में कई नकारात्मक विचार हर समय चलते रहते हैं ऐसे में जरूरी है कि घबराहट और बेचैनी रोग के लक्षण नजर आते ही अपने डॉक्टर से मिलकर इस रोग का इलाज़ करवाए.

कुछ लोगो में घबराहट और बेचैनी की समस्या इस हद तक हो जाती है की वह कुछ भी सोचने समझने की स्थिति में नहीं रहते है जिस वजह से उनका ध्यान अपने पर्सनल काम पर नहीं लग पाता है और इस बिमारी को एंग्जाइटी डिसऑर्डर कहा जाता हैं

घबराहट-बेचैनी के कारण

  • आमतौर पर किसी भी व्यक्ति को चिंता और डर की वजह से घबराहट हो जाती है ।

 

  • किसी के सामने बोलने में डर लगने की वजह से घबराहट या बेचैनी की समस्या हो सकती है।

 

  • अनजान व्यक्ति से मिलने पर भी घबराहट हो शक्ती है ।

 

  • इंटरव्यू देने से पहले हर किसी ब्यक्ति को घबराहट और बेचैनी की समस्या होती है।

 

  • जब कोई पहली बार किसी काम की शरुआत करता है तब भी उसे घबराहट की समस्या होती है।

 

  • ऐसे मीटिंग में जाना जहाँ पर आपको लगता है की आप पर ध्यान केंद्रित किया जायेगा।

 

  • परीक्षा  के पहले और परीक्षा देते समय भी कुछ विद्यार्थियों में घबराहट और बेचैनी की समस्या होती है।

घबराहट और बेचैनी  के लक्षण

 

 

  • पेट खराब होना और जी मिचलाना.

 

  • दिल की धड़कन तेज होना.

 

  • झटके लगना.

 

  • ऐंठन या कापना.

 

  • मुँह सुखना.

 

  • हाथो में पसीना आना.

 

  • साँस फूलना.

 

  • अचानक ठंड और गर्मी लगना.

 

  • तनाव में रहना.

 

  • डर लगना.

 

  • किसी भी काम को सही से न कर पाना.

 

  • ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होना.

 

  • चक्कर आना.

 

  • मांसपेशियों में तनाव रहना.

 

  • सांस लेने में कठिनाई होना.

 

  • एक ही बात बार-बार दोहराना.

 

  • परेशान होना.

 

  • बॉडी टेंप्रेचर में असंतुलन होना.

 

  • डरावने सपने आना .

 

 

घबराहट और बेचैनी  से बचने के उपाय

 

 

  • इस रोग से बचने के लिए निम्नलिखित उपाय किये जा सकते है जेसे  –

 

  • जब भी घबराहट और बेचैनी जैसा महसूस हो, तो धीरे-धीरे सांस ले.

 

  • डॉक्टर को इस समस्या के बारे में बताये और उनसे जांच करवाएं.

 

  • नकरात्मक सोच आने पर अपने ध्यान को भटकाए ध्यान भटकाने के लिए आप टीवी देख सकते है या कुछ खेल सकते है या मोबाइल देख सकते है.

 

  • अपने माइंड पर जोर  न डाले आराम देने वाले काम करे जैसे की किताब पढ़ना गाने सुनना.

 

  • नियमित रूप से व्यायाम करना .

 

  • उठ कर पार्क में टहलने जाए.

 

  • धूम्रपान बंद कर दे और कैफीन का भी सेवन कम करे क्योंकि कैफीन और निकोटीन दोनों से घबराहट और बेचैनी रोग के होने का खतरा ज्यादा रहता है.

 

  • तनाव को कम करने के लिए योग करे। इससे दिमाग शांत रहेगा और नकरात्मक सोच भी नहीं आएगी.

 

  • पर्याप्त नींद ले।अगर आपको नींद की समस्या हो रही हो तो तुरंत ही आप डॉक्टर से मिले.

 

  • स्वस्थ भोजन करे.

 

  • घबराहट दूर करने के लिए आप प्राकृतिक उपाय भी अपना सकते है जैसे की  कै मोमाइल चाय एल थिएनाइन या ग्रीन टी ओमेगा-3 फैटी एसिड (फैटी फिश जैसे ट्यूना और सालमन अखरोट और अलसी के बीज) लैवेंडर नींबू बाम (नींबू बाम आपको चाय कैप्‍सूल या अन्‍य शांत जड़ी बूटियों के साथ संयुक्‍त करके मिल सकती है.)

 

 

  • घबराहट और बेचैनी रोग की बीमारी का इलाज दवाई से हो सकता है इसके अलावा बातचीत से भी इस समस्या का समाधान किया जा सकता है इसे कॉग्निटिव बिहेवियर थैरेपी कहते हैं अगर आपको घबराहट और बेचैनी रोग की समस्या ज्यादा हो रही हो या फिर ऊपर बताये गए लक्षणों में से कोई भी लक्षण नजर आये तो तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क कर सकते है

 

  • अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप हमें फॉलो कर सकते हैं धन्यवाद .

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!