1. मनुष्य एकमात्र स्तनपायी है, जो स्वेच्छा से नींद में देरी कर सकता है.

2. मनुष्य अपने जीवन का 1/3 भाग सोने में बिताता है. हालांकि आयु के आधार पर इसमें भिन्नता देखने को मिलती है, लेकिन औसतन यह लगभग एक-तिहाई होता है. जो सोचा जाए, तो काफ़ी अधिक है.

3. बिल्ली अपने जीवन का दो-तिहाई समय सोने में बिताती है.

4. जिराफ़ को दिन में केवल 1.9 घंटे नींद की आवश्यकता होती है.

5. एक भूरे रंग के चमगादड़ को दिन में 19.9 घंटे नींद की आवश्यकता होती है.

6. घोंघे लगातार 3 वर्ष तक सो सकते हैं.

7. समुद्री उदबिलाव एक-दूसरे का हाथ पकड़कर सोते हैं, ताकि एक-दूसरे से बिछड़ न जाएं.

8. ख़रगोश अपनी दोनों आँखें खोलकर सो सकते हैं.

9. घोड़े खड़े-खड़े सो सकते हैं.

10. डॉल्फ़िन अपनी एक आँख खोलकर सोती हैं. नींद में भी वे सचेत रहती हैं और शार्क जैसे शिकारी जीवों से अपनी रक्षा कर पाती हैं.

11. नींद में आप छींक या खांस नहीं सकते. यदि आपने किसी को सोती हुई अवस्था में खांसते हुए देखा है, तो इसका अर्थ है कि वे खांसी पूरी करने के लिए उनकी नींद टूट चुकी है.

12. मनुष्य में सोते समय सूंघ पाने की क्षमता नहीं होती. यदि सोते समय में घर की रसोई में गैस लीक को जाए या धुएं की गंध आये, तो पता नहीं चलता.

13. ऊँचाई जितनी अधिक होगी, नींद में गड़बड़ी भी उतनी ही अधिक होगी. आमतौर पर 13,200 फीट या उससे अधिक की ऊँचाई पर नींद में अधिक गड़बड़ी उत्पन्न हो जाती है. ऊँचाई में नींद में गड़बड़ी का कारण ऑक्सीजन के स्तर में कमी होना है, जिससे श्वसन प्रभावित होता है. अधिकांश लोगों को नई ऊँचाई में समायोजित होने में दो से तीन सप्ताह का समय लगता है.

14. सामान्य तौर पर, नियमित रूप से व्यायाम करने से नींद आना आसान हो जाता है. हालांकि, बिस्तर पर जाने से ठीक पहले व्यायाम करने से नींद आने में मुश्किल होती है.

15. तलाकशुदा, विधवा और अलग हुए लोग अनिंद्रा के अधिक शिकार होते हैं.

16. नींद के लिए कैफीन सबसे लोकप्रिय दवा मानी जाती है. दुनिया भर में लोग कॉफी, चाय, कोको, चॉकलेट, कुछ शीतल पेय और कुछ दवाओं में दैनिक आधार पर कैफीन का सेवन करते हैं.

17. हम स्वाभाविक रूप से दिन के दो अलग-अलग समयों पर सबसे ज्यादा थकते हैं: सुबह 2:00 AM और दोपहर 2:00 PM.

18. सुबह 3 से 4 बजे के मध्य इन्सान का शरीर सबसे ज्यादा कमज़ोर होता है. यही कारण है कि अधिकतर लोगों की मृत्यु नींद में इसी समय होती है.

19. लगभग 90 मिलियन अमेरिकी वयस्कों की नींद में खलल पड़ने का प्राथमिक कारण खर्राटे हैं; नियमित आधार पर लगभग 37 मिलियन लोगों की नींद में खलल खर्राटों के कारण पड़ती है.

20. जो लोग पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं, उनके भूख-विनियमन हार्मोन लेप्टिन का स्तर (leptin levels) गिर जाता है. इस कारण उनमें अधिक भूख लगने की संभावना होती है और उनकी भूख बढ़ जाती है.

21. सोते समय डॉल्फ़िन के दिमाग का आधा हिस्सा सोया होता है, जबकि आधा जागा. सांस लेने के लिए डॉल्फिन को सचेत रहना पड़ता है. इसलिए वे पूरी तरह से सो नहीं सकती.

22. नींद की कमी भोजन और पानी की कमी की तुलना में अधिक तेज़ी से मारती है. मनुष्य बिना खाये 2 माह तक, बिना पानी पिये 30 दिनों तक जीवित रह सकता है. लेकिन बिना सोये मात्र 11 दिनों तक जीवित रह सकता है.

23. सबसे ज्यादा लगातार जागने का रिकॉर्ड 11 दिन का है, जो 1964 में रैंडी गार्डनर (Randy Gardner) नाम के कैलिफोर्निया के एक छात्र द्वारा बनाया गया था.

24. सामान्य तौर पर, अधिकांश स्वस्थ वयस्कों को एक रात में 7 से 9 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है. हालांकि, कुछ लोग 6 घंटे की नींद के बाद भी बिना उनींदापन के कार्य करने में सक्षम होते हैं. जबकि कई लोग जब तक 10 घंटे तक सोते नहीं लेते, तब तक बेहतर ढंग से अपना कार्य नहीं कर पाते.

25. जो लोग हर रात 7 घंटे से कम सोते हैं उनकी समय से पहले मौत होने की संभावना 12% बढ़ जाती है.

26. जिन वयस्कों को रात में 7 घंटे से कम नींद आती है, उनमें अस्थमा, कैंसर और मधुमेह से पीड़ित होने की संभावना अधिक होती है.

27. हर रात 7 घंटे से कम की नींद लेना आपको गुस्सा, उदास और तनाव में डाल सकता है.

28. पुरुषों की तुलना में महिलाएं अधिक सोती हैं.

29. नवजात शिशु 24 घंटे में से 14 से 17 घंटे सोने में बिताते हैं. शिशुओं का दिमाग ग्लूकोज़ पूरी सप्लाई का 50% इस्तेमाल कर लेता है. इसलिए उन्हें अधिक सोने की आवश्यकता पड़ती है.

30. नवजात शिशुओं के माता-पिता अपने बच्चे के जीवन के पहले 2 वर्षों में अपनी 6 माह की नींद खो देते हैं.

31. बधिर लोगों के लिए अपनी नींद में सांकेतिक भाषा का उपयोग करना असामान्य नहीं है. ऐसे कई उदाहरण हैं, जहाँ लोगों ने अपने बधिर साथी या बच्चों द्वारा नींद में सांकेतिक भाषा का उपयोग करने के बारे में बताया है.

32. ‘Dysania’ वह अवस्था है, जिसमें सुबह-सुबह बिस्तर से उठना बहुत मुश्किल लगता है.

33. पैरासोमनिया (Parasomnia) वह अवस्था है, जिसमें लोग नींद में विभिन्न गतिविधियाँ करते हैं, जैसे नींद में चलना, नींद में ड्राइविंग और कई बार तो वे पैरासोमनिया की अवस्था में हत्या जैसा अपराध भी कर जाते हैं.

34. सोते समय दांत किटकिटाने को ‘Bruxism’ कहा जाता है.

35. ‘Sleep Apnea’ नामक रोग में सोते वक़्त सांस रुक जाती है. ऐसे में व्यक्ति की नींद खुल जाती है और वह झटके से उठकर बैठ जाता है. नींद में सांस रुकने की यह समस्या कुछ सेकंड से लेकर कुछ मिनट तक हो सकती है. खर्राटे लेने वाले व्यक्ति को जैसे पता नहीं चलता कि वह खर्राटे ले रहा था, वैसे ही स्लीप एपनिया में व्यक्ति को पता ही नहीं चलता कि उसकी सांस रुक गई थी.

36. ‘नेशनल स्लीप फाउंडेशन’ (National Sleep Foundation) के अनुमान अनुसार दुनिया के लगभग 15% लोग नींद में चलते हैं. अक्सर सुनने को मिल जाता है कि नींद में चलने वाले इंसान को जगाना नहीं चाहिये. पर वास्तव में यह एक मिथक है.

37. दुनिया के 5% लोगों को नींद में बोलने की बीमारी (Somniloquy) है.

38. आदर्श रूप से रात में बिस्तर पर जाकर नींद आने में आपको 10 से 15 मिनट लगने चाहिए. यदि आपको 5 मिनट से कम समय लगता है, तो संभावना है कि आपको नींद की कमी है.

39. पेट के बल सोना पाचन में सहायक होता है. बाईं ओर करवट लेकर सोने से सीने की जलन (heartburn) कम होती है.

40. स्वास्थ्य की दृष्टि से सोने की सबसे अच्छी स्थिति पीठ के बल सोना होती है, क्योंकि इस स्थिति में पीठ, गर्दन और रीढ़ तटस्थ होते हैं और शरीर को पूर्ण आराम पहुँचता है.

41. बिस्तर से पहले अपने फोन या टैबलेट का उपयोग करने से आपकी नींद प्रभावित हो सकती है. सोने से पहले किसी भी प्रकार का प्रकाश अच्छा नहीं होता. नींद उत्प्रेरण हार्मोन ‘मेलाटोनिन’ का स्त्राव प्रकाश द्वारा और विशेष रूप से नीली रोशनी से प्रभावित होता है. इसलिए नीली रोशनी नींद के लिए दुगुनी खराब होती है.

42. टेलीविज़न देखने से कहीं अधिक कैलोरी सोते समय बर्न होती है.

43. स्तनपान कराते समय बच्चे के साथ सोने वाली माताएं उन माताओं की तुलना में  24 घंटे की अवधि में अधिक नींद लेती हैं, जो ऐसा नहीं करती.

44. कई तिब्बती भिक्षु बैठकर भी सो सकते हैं.

45. एक लेख के अनुसार महात्मा गांधी में नींद को काबू में करने का हुनर था. वे अपनी मर्ज़ी से सो और जाग सकते थे. 5 मिनट की गहरी नींद ही उनके लिए पर्याप्त होती थी.

46. जापान में काम के दौरान एक झपकी लेने की अनुमति है, जिसे ‘inemuri‘ कहा जाता है. इस झपकी को बहुत अधिक कड़ी मेहनत के फलस्वरूप आई थकान के प्रमाण के रूप में देखा जाता है.

47. NSF के द्वारा 2008 में किये गए ‘स्लीप इन अमेरिका पोल’ (Sleep in America poll) के नतीजों के अनुसार 36 प्रतिशत अमेरिकन गाड़ी चलाते समय सो जाते हैं.

48. अमेरिका में प्रति वर्ष 1,500 से अधिक मौतें गाड़ी चलते समय ड्राइवरों के सो जाने के कारण होती हैं.

49. ब्रिटेन में किये गये एक सर्वेक्षण में 50% पायलटों ने माना कि वे यात्री विमान उड़ाते समय सो गए थे.

50. अलार्म घड़ी आने के पूर्व ब्रिटेन में मिल कारखाने में शिफ्ट में काम करने वाले श्रमिकों को जगाने के लिए ‘नौकर्स अप’ हुआ करते थे. वे लंबे बांस से श्रमिकों की खिड़कियों को तब तक ठोंकते थे, जब तक वे जाग न जायें.

51. डेविड एचिंसन 1849 में मात्र 1 दिन के लिए अमरीका के राष्ट्रपति बने थे. उस 1 दिन का अधिकांश समय उन्होंने सोते हुए गुज़ार दिया था.

52. ब्रिटिश गायक जॉन लेनन (John Lennon) वे अक्सर पुराने ताबूत में उसमें सोया करते थे.

53. प्रथम विश्व युद्ध के दौरान 1915 में हंगरी के पॉल कर्न (Paul Kern) नामक व्यक्ति के ब्रेन के फ्रंटल लोब पर गोली लग गई थी. उसे बचा लिया गया. लेकिन उसके बाद अपनी मौत (1955) तक वह कभी सो नहीं सका.

54. निंद्रा-चक्र (Sleep cycle) REM (rapid eye movement) और NREM (non rapid eye movement) Sleep के बीच घूमता है. REM sleep के दौरान आँखें विभिन्न दिशाओं में घूमती है, जबकि NREM sleep में ऐसा नहीं होता.

55. निंद्रा-चक्र में पहले NREM sleep आता है, फिर थोड़े समय के लिए REM sleep. यह चक्र पूरी नींद के दौरान चलता रहता है.

56. मनुष्य NREM sleep में रात का लगभग 75% खर्च करता है.

57. वयस्कों की तुलना में नवजात शिशुओं में REM sleep दुगुनी होती है.

58. REM sleep के दौरान मनुष्य का मस्तिष्क लगभग उतना ही सक्रिय होता है, जितना जागते समय होता है.

59. सपने REM sleep के दौरान आते हैं, क्योंकि उस समय दिमाग ज्यादा एक्टिव होता है.

60. भारी कंबल के नीचे सोने से नींद में सुधार हो सकता है. यह उन लोगों के लिए भी मददगार साबित हुआ है, जो अनिंद्रा और अवसाद से पीड़ित हैं.

61. सोने जाने के ठीक पहले कॉफी पीने से मनुष्य की Internal Body Clock 40 मिनट पीछे चली जाती है.

62. जो लोग पीठ दर्द से पीड़ित हैं, उन्हें सबसे ख़राब नींद आती है.

63. हर दिन 30 मिनट का व्यायाम प्रति रात 14 मिनट की नींद बढ़ा देता है.

64. एक अध्ययन अनुसार दूज के चाँद (new moon) की रात सबसे अच्छी नींद आती है और पूर्णमासी (full moon) की रात सबसे ख़राब.

65. अनिंद्रा (Insomnia) सबसे आम निंद्रा-विकार है.

66. तीन-चौथाई लोग जो अवसाद से पीड़ित होते हैं, वे भी नींद की कमी से भी पीड़ित होते हैं.

67. सामान्यतः उम्र के हिसाब से अनिंद्रा की दर बढ़ जाती है, लेकिन अक्सर नींद की गड़बड़ी के पीछे कुछ चिकित्सीय कारण हो सकते हैं.

68. नींद की कमी से दर्द सहने की शक्ति कम हो जाती है. ऐसा क्यों है, ये अब तक ज्ञात नहीं है.

69. नींद की कमी मनुष्य की याददाश्त को प्रभावित कर सकती है.

70. शोध में यह बात सामने आई है कि नींद की कमी से वजन बढ़ सकता है

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!