1. कहा जाता है कि आँखों का विकास, एक बहुत ही बुनियादी तौर पर, सबसे पहले जानवरों में, करीबन 550 मिलियन साल पहले हुआ था।
  2. दुनिया में बहुमत लोगों की आँखें भूरी होतीं हैं।
  3. असल में हम जो भी देखते हैं, हमारे मस्तिष्क से देख पाते हैं। हमारी आँखें सिर्फ एक ज़रिया है जिसके कारण हमारे मस्तिष्क पर हर उस चीज़ की छाप पड़ जाती है, जिसे हम देखते हैं।
  4. कुत्तों की आँखें कुछ ऐसी है, कि वे हरे और लाल रंग के बीच का फरक नहीं पहचान पाते हैं।
  5. हमारी आँखों की पुतली (iris) में, मैलनिन नाम का तत्व, जितना पाया जाता है, उसी पर आधारित, हमारी आँखों को अलग-अलग प्रकार के रंग मिलते हैं।
  6. पलक नहीं झपकने के कारण, जब हम कुछ पढ़ते हैं, या कम्प्यूटर पर काम करते हैं, तो हमारी आँखें थक जातीं हैं।
  7. जन्म से ही हमारी आँखों का आकार ना बढ़ता है, ना घटता।
  8. किसी से बात करते वक्त, हमारी पलकें ज़्यादा झपकती हैं।
  9. मधुमेह (diabetes) के कारण, इंसान अंधा भी हो सकता है।
  10. हम काकज़ पर लिखे कुछ भी चीज़ को जल्दी पढ़ पाते हैं। मोबाइल, लैपटॉप या कम्प्यूटर पर हम अक्सर किसी भी चीज़ को 25% धीरे पढ़ते हैं।
  11. नवजात शिशु, वर्णांध (colour blind) होते हैं।
  12. अपनी आँखों को खुला रखकर छींकना असंभव कार्य है।
  13. एक शुतुरमुर्ग (ostrich) की आँखें, उसके मस्तिष्क से बड़ी होतीं हैं।
  14. इंसान धूसर (grey) रंग के 500 प्रकार को पहचान सकता है।
  15. हम एक साल में कम से कम 4,20,000 बार अपनी पलक झपकते हैं।
  16. हमारे शरीर में सिर्फ कॉर्निया ही वो ऊतक (tissue) है, जिसमें रक्त वहिकाएँ (blood vessels) नहीं पाईं जाती है।
  17. धुम्रपान करने से हमें रात को कम दिखाई देता है।
  18. नवजात शिशुओं की आँखों में आँसूओं का विकास तब होता है, जब वे लगभग छ: हफ्ते के शिशु बन जाते हैं।
  19. इंसान के आँखों की सर्जरी के लिए, एक शार्क के कॉर्निया का इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि इंसान के कॉर्निया से, यही बिल्कुल समान नज़र आता है।
  20. आँखों से जुड़ी बीमारियों को 80% ठीक किया जा सकता है।
  21. हमारी आँखों को सिर्फ तीन रंग नज़र आते हैं – लाल, नीला, और हरा। बाकी अन्य रंग, इन्हीं के मिलने से बनते हैं।
  22. एक ऊँठ की बरौनी (eyelash) लगभग 10cm लम्बी होतीं हैं।
  23. आँखों के मसल्स, सबसे फुर्तीले मसल्स होते हैं।
  24. गिरगिट की आँखें, एक दूसरे पर निर्भर नहीं होतीं हैं। वो एक ही बार में दो अलग दिशाओं में देख सकते हैं।
  25. हम एक ही सेकंड में, अपनी पलकों को पाँच बार झपक सकते हैं।
  26. किसी भी प्रकार के खतरे को मेहसूस करते ही, हमारी आँखें अपने आप ही बंद हो जातीं हैं।
  27. हमारी बरौनी, गंदगी को हमारी आँखों से दूर रखती है।
  28. पृथवी पर, भारी विद्रूप (colossal squid) की आँखें सबसे बड़ी होतीं हैं।
  29. हमारी भौहें (eyebrows), पसीने को हमारी आँखों में जाने से बचाती है।
  30. हैटीरोक्रोमीया एक ऐसी स्थिति है जहाँ हमारी आँखों के दो रंग होते हैं।
  31. डॉल्फिन अपनी एक आँख खुली रखकर सोता है।
  32. मधुमक्खियों के पाँच आँख होते हैं।
  33. हमारे मस्तिष्क के बाद, हमारी आँखें ही शरीर का सबसे जटिल अंग है।
  34. जब हमारी आँखों से पानी निकलता है, तो हमारी आँखें उस वक्त सूखे स्थिति में होती है।
  35. उल्लू अपने नेत्रगोलक (eyeball) को नहीं घुमा पाते हैं।
  36. हमारी उम्र जैसे जैसे बढ़ती है, वैसे वैसे हमारी आँखें आँसूओं को उतपादित करना बंद कर देतीं हैं।
  37. एक घंटे में हमारी आँख़ें लगभग 36,000 जानकारियों या नज़ारों को हमारे मस्तिष्क तक पहुँचा सकतीं हैं।
  38. वर्णांध होना, अक्सर पुरुषों में देखा जाता है।
  39. कम प्रकाश में पढ़ने से हमारी आँख़ों को हानी तो नहीं पहुँचती हैं, लेकिन वो थक जाते हैं।
  40. जिस मच्छली की चार आँखें होती है, वो पानी के ऊपर और नीचे एक ही बार में देख सकती है।
  41. विटामिन ए और सी के तत्व, हमारी आँखों के लिए अच्छा साबित हुआ है।
  42. आँखों की नसों में सहनशीलता कम होने के कारण, नेत्र प्रत्यारोपण (eye transplant) की संभावना नहीं है।
  43. समुद्री लुटेरों का मानना था कि सोने की बालियाँ पहने से, उनकी आँखों की सेहत अच्छी रहेगी।
  44. हमारी भौहें और आँखों के बीच की जगह को ग्लाबैल्ला कहते हैं।
  45. बकरियों की आँखों की पुतली आयताकार होती है।
  46. सबकी एक आँख, दूसरी आँख से ज़्यादा ताकतवर होती है।
  47. हमारा नेत्रगोलक (eyeball) लगभग 28 ग्राम का होता है।
  48. आँसू हमारी आँखों को साफ रखता है। लेकिन फिर भी वैज्ञानिकों की समझ से बाहर है कि हम दुखी होते हैं तो रोते क्यों हैं।
  49. सभी पक्षियों में से, सिर्फ उल्लू को नीला रंग दिखाई देता है।
  50. जब हम रोते हैं तो हमारा नाक इसलिए बेहने लगता है, क्योंकि आँसू हमारे नासिका मार्ग (nasal passages) तक पहुँच जाती है।
  51. हमारी याददाश्त 80% उन चीज़ों पर आधारित है, जिन्हें हम अपनी आँख़ों से देखते हैं।
  52. तेज़ रोशनी में हमें टोपी और धूप का चश्मा पहना चाहिए। इससे हमारी आँखें पराबैंगनी किरणों (UV rays) से सुरक्षित रहतीं हैं।
  53. जिस तरह से उंगलियों की छाप में 40 अनोखे तत्व होते हैं, उसी तरह हमारे आँख की पुतलियों में 256 प्रकार के अनोखे तत्व होते हैं।
  54. हमारे पूरे जीवन काल में हम कम से कम 24 मिलियन चीजें देखते हैं।
  55. यह साबित किया गया है कि पुरुषों में छोटे अक्षर पढ़ने की क्षमता, औरतों से ज़्यादा होती है।
  56. बिच्छूओं को लगभग 12 आँख़ होते हैं।
  57. बॉक्स जैलीफिश के 24 आँख होते हैं।
  58. कॉर्निया हमारी आँखों की पुतलियों का एक पारदर्शक (transparent) कवर है।
  59. चूहों के एक प्रकार का जन्म, खुली आँख़ों के साथ होता है।
  60. कीड़ों के आँख़ नहीं होते हैं।
  61. उल्लू एक हिलते चूहे को 150 फीट की दूरी से भी देख सकता है।
  62. विश्व में लगभग 39 मिलियन लोग अंधे हैं।
  63. हमारी आख़ों में जो कोशिकाएँ हैं, अलग-अलग आकार के हैं।
  64. जो लोग अंधे होते हैं, लेकिन जन्म से नहीं, वो लोग नींद में सपने देख पाते हैं।
  65. हमारी आँख़ों को भी धूप की कालिमा (sunburn) हो सकती है।
  66. आँखों के डर को ओमाटोफोबिया (ommatophobia) कहते हैं।
  67. हमारी आँखें चीज़ों को उलटी दिशा में देखतीं हैं, जिसे हमारा मस्तिष्क सीधा कर देता है।
  68. मच्छलियाँ अपनी आँखें बंद नहीं कर सकतीं हैं।
  69. आल्बर्ट आईंस्टाइन की आँखों को, न्यू यॉर्क में, एक डब्बे में रखा गया है।
  70. लेज़र की एक प्रक्रिया से हम हमारी आँखों का रंग भूरे से नीला कर सकते हैं।
  71. कहा जाता है कि सिर्फ 2% इंसानों की आँखें हरे रंग की होतीं हैं।
  72. ऐसी भी एक बीमारी होती है जिसमें इंसानों के नेत्रगोलक से बाल उगते हैं।
  73. तितलियों के चार आँख होते हैं।
  74. हम असल में केवल 3 ही रंग देख पाते है: नीला, लाल और हरा. बाकी सारे रंग इन्हीं तीनों को मिलाकर बनते है. इन तीनों की मदद से हम 1 करोड़ रंग पहचान लेते है.
  75. हमारा आधे से ज्यादा दिमाग आंखो को ही संभालने में लगा रहता है. (approx. 65%)
  76. आंखो को कंट्रोल करने वाली मसल्स शरीर में सबसे ज्यादा एक्टिव रहती है. फोकस करने वाली मसल्स दिन में 10 लाख बार हिलती है. आपकी टांगो की मसल्स को इतना ही काम करने के लिए एक दिन में करीब 80km पैदल चलना पड़ेगा.
  77. हमारी आंखो में जबरदस्त मेडिकल पाॅवर होती है. इनमें धूल, मिट्टी को छानने की क्षमता होती है. और By chance, आँख के शीशे पर थोड़ी बहुत स्क्रेच लग भी जाती है तो आंख उसे 48 घंटे के अंदर ठीक कर लेती है.
  78. हमारी आंखे केवल दो कोशिकाओं (cells) की वजह से देख पाती है. Rod cells और Cone cells. हमारी आंखो में 13 करोड़ rod और 70 लाख cone cells होती है. Rod cells की मदद से ही आप अंधेरे में देख पाते है.
  79. आदमी की आंख 576 मेगापिक्सल की है. इसे एक जगह फोकस करने में केवल 2 मिलीसेकंड का समय लगता है. इस जितना तेज और साफ कैमरा बनाना वैज्ञानिकों की समझ से परे है.
  80. हमारी आंखो का कलर ‘melalin’ पर निर्भर करता है. नीली आंखो वाले लोगो में ज्यादा मेलालिन पाया जाता है.
  81. कुछ लोगो की दोनो आँखो का रंग अलग-अलग होता है. इसे Hererochromia कहा जाता है.
  82. यदि आपको नजदीक का दिखाई नही देता तो आपकी आँखो के गोले (eyeball) बड़े होते है और यदि आपको दूर का नही दिखाई देता तो ये गोले छोटे होते है.
  83. नीली आँखो वाले लोग सूर्य की चमक दूसरों के मुकाबलें कम सह पाते है. और आज से 10,000 साल पहले धरती पर एक भी नीली आंखो वाला इंसान नही था. मतलब, आज धरती पर मौजूद सभी नीली आंखो वाले लोगो का पूर्वज एक ही था जो 10 हजार साल पहले पैदा हुआ था.
  84. नवजात बच्चा 15 इंच की दूरी तक ही ठीक से देख पाता है. और जन्म से लेकर मौत तक आपकी आँखो का एक ही साइज रहता है. ये घटती बढ़ती नही.
  85. आंखे, शरीर का दूसरा सबसे जटील (पेचीदा, complex) अंग है. (दिमाग के बाद). जिसमें 20 लाख पार्टस होते है और यह हर घंटे 4.5kb (0.034 MB) जानकारी का आदान-प्रदान करती रहती है.
  86. रोने पर आपकी नाक इसलिए बहती है क्योंकि आंसू नाक के रास्ते रिसने लगते है.
  87. पूरी आंख में केवल cornea (काॅर्निया) ही ऐसा टिशू है जिसमें खून नही होता. इस कारण से कार्निया को ऑक्सीज़न की जरूरत भी नही पड़ती. आंखो की कई सर्जरी में शार्क मछली की आंख का cornea यूज़ किया जाता है क्योंकि यह इंसान की cornea के बिल्कुल समान होता है.
  88. जब आप किसी से बात करते है तो पलकें ज्यादा झपकती है पर जब आप कंप्यूटर स्क्रीन या कागज पर कुछ पढ़ रहे होते है तो कम झपकतीं है – इसलिए आपकी आंखे ज्यादा थकती है.
  89. आंखे लगभग एक मिनट में 17 बार, एक दिन में 14,280 बार और एक साल में 52 लाख बार झपकती है. एक बार आंख झपकाने में 100 से 150 milliseconds लगते है लेकिन एक सेकंड में 5 से ज्यादा बार आँख झपकाना असंभव है. अगर पूरी जिंदगी का आंख झपकाने का समय जोड़ा जाए तो यह 1 साल से ज्यादा होगा. आँख झपकाने के दो कारण है: आँखो में नमी बनाए रखना और बाहरी कणों से आंखो को बचाना.
  90. अंधेरे और रोशनी के हिसाब से हमारी आंखे खुद को एडजस्ट कर लेती है. इसे देखने के लिए एक प्रयोग करे: बल्ब बंद करके अपनी बाथरूम में जाएं, और थोड़ी देर बाद शीशे के सामने खड़े होकर बल्ब जला दे. आप शीशे में देखोगे की कैसे हमारी आंखो की पुतलियाँ सिकुड़ती है.
  91. बच्चा जब तक 4 से 13 हफ्तों का नही हो जाता, तब तक वो केवल रोने की आवाज़ करता है उसकी आँखो से आँसू नही निकलते.
  92. हर 5 महीने बाद हमारी पलकें नई आती रहती है जबकि सिर के बाल 2 से 4 वर्ष बाद बदलते है.
  93. करेलिया (गिरगिट) 2 अलग-अलग दिशाओं में देख सकता है, एक ही समय पर.
  94. कुत्तों को हरे और लाल रंग में अंतर नही पता लगता.
  95. जब हम किसी हैरान करने वाली चीज को देखते है तो हमारी आंखो की पुतलियों का साइज 45% तक बड़ा हो जाता है.
  96. कई बार फोटो में हमारी आँखे लाल आ जाती है. क्योंकि फ्लैश को रेटिना की रक्त वाहिनाएँ रिफ्लेक्ट कर देती है. वही कुत्तों व अन्य जानवरों की आंखे हरी आती है. क्योंकि उनकी रेटिना के पीछे कोशिकाओं की एक्सट्रा परत्त होती है. फुटेज में आपकी आंखे लाल ना आए इससे बचने के लिए फोटो को ऐसे एंगल से शूट करवाएँ कि light का सोर्स कैमरे के बिल्कुल ऊपर ना हो.
  97. सिक्योरिटी लाॅक के लिए eyes scan इसलिए ज्यादा यूज किया जाता है क्योंकि fingerprints में 40 unique character होते है जबकि iris (जो आंखो की पुतलियों के साइज और लाईट को कंट्रोल करता है) में 256.
  98. बाज़ की नज़र हमसे 4 से 5 गुना तेज़ होती है. इंसान की आंखो के लिए दृष्टि की शुद्धता 20/20 तय की गई है बल्कि बाज़ के लिए यही 20/4 तय की गई है. मतलब, जिस चीज़ को इंसान की आंखे 20 फीट की दूरी से देख पाती है उसी चीज को बाज 100 फीट की दूरी से देख लेता है.
  99. आपको पढ़कर शोक लगेगा, कि गाजर आपकी आंखो की रोशनी नही बढ़ाती. यह एक अफवाह है, जो अंग्रेजों द्वारा अपनी एक चीज छुपाने के लिए WWII (द्वितीय विश्व युद्ध) के दौरान फैलाई गई थी. दरअसल, युद्ध के दौरान अंग्रेज पायलट बहुत दूर से दुश्मन को ढूंढ लेते थे क्योंकि उनको रडार का लाभ मिल रहा था. इस रडार को अपने दुश्मनों से छिपाने के लिए उन्होनें अफवाह उड़ाई की हमारे पायलट भोजन में गाजर खाते है इसलिए उनकी आंखो की रोशनी तेज है.
  100. मधुमक्खियों के पाँच आँख होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!