“रावण” तो सिर्फ एक है दुनिया में इस नाम का कोई दूसरा व्यक्ति नही है | राम तो बहुत मिल जायेंगे लेकिन रावण (Ravana) नही | राजाधिराज लंकाधिपति महाराज रावण को दशानन भी कहते है | कहते है कि रावण लंका का तमिल राजा था | सभी ग्रंथो को छोडकर वाल्मीकि द्वारा लिखित रामायण महाकाव्य में रावण (Ravana) का सबसे प्रमाणिक इतिहास मिलता है |

हिन्दू धर्म को मानने वाले सभी लोग राम सीता और रावण के बारे में अच्छी तरह जानते होंगे फिर भी  रावण (Ravana) से जुड़े कुछ ऐसे तथ्य भी है जो शायद आपने एक साथ कही नही पढ़े होंगे | रामायण के अलग अलग भागो से संग्रहित करके आज हम आपको रावण से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों को आपके सामने पेश करेंगे जिससे पता चलेगा कि रावण (Ravana) केवल दुराचारी ही नही था बल्कि धर्म में बहुत विश्वास करता था और उसे महाज्ञानी माना जाता है |

  1. रावण के दादाजी का अनाम प्रजापति पुलत्स्य था जो ब्रह्मा जी के दस पुत्रो में से एक थे | इस तरह देखा जाए तो रावण ब्रह्मा जी का पडपौत्र हुआ जबकि उसने अपने पिताजी और दादाजी से हटकर धर्म का साथ न देकर अधर्म का साथ दिया था |

  2. हिन्दू ज्योतिषशास्त्र में रावण संहिता को एक बहुत महत्वपूर्ण पुस्तक माना जाता है लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि रावण संहिता की रचना खुद रावण ने की थी |रावण अपने समय का सबसे बड़ा विद्वान माना जाता है और रामायण में बताया गया है कि जब रावण मृत्यु शय्या पर लेटा हुआ था तब राम जी ने लक्ष्मण को उसके पास बैठने को कहा था ताकि वो मरने से पहले उनको राजपाट चलाने और नियन्त्रण करने के गुर सीखा सके |

  3. रामायण में एक जगह यह भी बताया गया है कि रावण में भगवान राम के लिए यज्ञ किया था | वो यज्ञ करना रावण (Ravana) के लिए बहुत जरुरी था क्योंकि लंका तक पहुचने के लिए जब राम जी की सेना ने पुल बनाना शुरू किया था तब शिवजी का आशीर्वाद पाने से पहले उसको राम जी का आराधना करनी पड़ी थी | रावण तीनो लोगो का स्वामी था और उसने न केवल इंद्र लोग बल्कि भूलोक के भी एक बड़े हिस्से को अपने असुरो की ताकत बढाने के लिए कब्जा किया था |

  4. रावण (Ravana) के कुछ चित्रों में आपने उनको वीणा बजाते हुए देखा होगा | एक पौराणिक कथा के अनुसार रावण को संगीत का बहुत शौक था उअर और वीणा बजाने में बहुत माहिर था | ऐसा कहा जाता है कि रावण वीणा इतनी मधुर बजाता था कि देवता भी उसका संगीत सुनने के लिए धरती पर आ जाते थे |

  5. ऐसा माना जाता है कि रावण इतना शक्तिशाली था कि उसने नवग्रहों को अपने अधिकार में ले लिया था | कथाओं में बताया जाता है कि जब मेघनाथ का जन्म हुआ था तब रावण ने ग्रहों को 11वे स्थान पर रहने को कहा था ताकि उसे अमरता मिल सके लेकिन शनिदेव ने ऐसा करने से मना कर दिया और 12वे स्थान पर विराजमान हो गये | रावण इससे इतना नाराज हुआ कि उसें शनिदेव पर आक्रमण कर दिया था और यहा तक कि कुछ समय के लिए बंदी भी बना लिया था | रावण ये जनता था कि उसकी मौत विष्णु के अवतार के हाथो लिखी हुयी है और ये भी जानता था कि विष्णु के हाथो मरने से उसको मोक्ष की प्राप्ति होगी और उसका असुर रूप का विनाश होगा |

  6. हमने रावण (Ravana) के 10 सिरों की कहानिया सूनी होगी इसमें दो प्रकार के मत है एक मत के अनुसार रावण के दस सिर नही थे जबकि वो केवल एक 9 मोतियों की माला से बना एक भ्रम था जिसको उसकी माता ने दिया था | दुसरे मत के अनुसार जो प्रचलित है कि जब रावण शिवजी को प्रसन्न करने के लिए घोर तप कर रहा था तब रावण ने खुद अपने सिर को धड से अलग कर दिया था जब शिवजी ने उसकी भक्ति देखी तो उससे प्रस्सन होकर हर टुकड़े से एक सिर बना दिया था जो उसके दस सर थे |

  7. शिवजी ने ही रावण को रावण (Ravana) नाम दिया था | ऐसा कथाओं में बताया जाता है कि रावण शिवजी को कैलाश से लंका ले जाना चाहता था लेकिन शिवजी राजी नही थे तो उसने पर्वत को ही उठाने का प्रयास किया | इसलिए शिवजी ने अपना एक पैर कैलाश पर्वत पर रख दिया जिससे रावण की अंगुली दब गयी हटी | दर्द के मारे रावण जोर से चिल्लाया लेकिन शिवजी की ताकत को देखते हुए उसने शिव तांडव किया था |  शिवजी को ये बहुत अजीब लगा कि दर्द में होते हुए भी उसने शिव तांडव किया तो उसका नाम रावण रख दिया जिसका अर्थ था जो तेज आवाज में दहाड़ता हो |

  8. जब रावण(Ravana)  युद्ध में हार रहा था और अपनी तरफ से अंतिम शेष प्राणी जब वही बचा था तब रावण ने यज्ञ करने का निश्चय किया जिससे तूफ़ान आ सकता था लेकिन यज्ञ के लिए उसको पुरे यज्ञ के दौरान एक जगह बैठना जरुरी था | जब राम जी को इस बारे में पता चल तो राम जी ने बाली पुत्र अंगद को रावण का यज्ञ में बाधा डालने के लिए भेजा | कई प्रयासों के बाद भी अंगद यज्ञ में बाधा डालने में सफल नही हुआ |

  9. तब अंगद इस विश्वास से रावण की पत्नी मन्दोदरी को घसीटने लगा कि रावण ये देखकर अपना स्थान छोड़ देगा लेकिन वो नही हिला | तब मन्दोदरी रावण के सामने चिल्लायी और उसका तिरस्कार किया और राम जी का उदाहरण देते हुए कहा की “एक राम है जिसने अपनी पत्नी के युद्ध किया और दुसरी तरह आप है जो अपनी पत्नी को बचाने के लिए अपनी जगह से नही हिल सकते ” | यह सुनकर अंत में रावण उस यज्ञ को पूरा किये बिना वहा से उठ गया था |

  10. रावण और कुंभकर्ण वास्तव में विष्णु भगवान के द्वारपाल जय और विजय थे जिनको एक ऋषि से मिले श्राप के कारण राक्षस कुल में जन्म लेना पड़ा था और अपन ही आराध्य से उनको लड़ना पड़ा था |राम -रावण के बातचीत में एक बार राम जी ने रावण (Ravana) को महा-ब्राहमण कहकर पुकारा था क्योंकि रावण 64 कलाओं में निपुण था जिसके कारण उसे असुरो में सबसे बुद्धिमान व्यक्ति बनाया था |

  11. ऐसा कहा जाता है कि एक बार रावण (Ravana) महिलाओं के प्रति बहुत जल्द आसक्त होता था | अपनी इसी कमजोरी के कान जब वो नालाकुरा की पत्नी को अपने वश में करने की कोशिश करता है वो स्त्री उनको श्राप ददेती है कि रावण अपने जीवन किसी भी स्त्री को उसकी इच्छा के बिना स्पर्श नही कर सकता वरना उसका विनाश हो जाएगा | यही कारण था कि रावण ने सीता को नही छुआ था |

  12. हम हमेशा पढ़ते है कि रावण ने सीता का हरण किया था जबकि जैन ग्रंथो की रामायण के अनुसार रावण सीता का पिता था जो एक हिन्दू धर्म के लोगो को बहुत अजीब बात लगती है | रावण को अपने दस सिरों की वजह से दशग्रीव कहा जाता है जो उसकी अद्भुद बुद्धिमता को दर्शाता है |

  13. रावण (Ravana) अपने समय का विज्ञान का बहुत बड़ा विद्वान भी था जिसका उदाहरण पुष्पक विमान था जिससे पता चलता है कि उसे विज्ञान की काफी परख थी | भारत का क्लासिकल वाद्य यंत्र रूद्र वीणा की खोज रावण ने ही की थी | रावण शिवजी का बहुत बड़ा भक्त था और दिन रात उनकी आराधना करता रहता था |

  14. रावण (Ravana) के बहुत से नाम थे जिसमे दशानन सबसे लोकप्रिय नाम था | रावण एक आदर्श भाई और एक आदर्श पति था | एक तरह उसने अपनी बहन सूर्पनखा के अपमान का बदला लेने के लिए इतना बड़ा फैसला लिया जो उसकी मौत का कारण था |दूसरा उसने अपनी पत्नी को बचाने के लिए उस यज्ञ से उठ गया जिससे वो राम जी की सेना को तबाह कर सकता था |

  15. इसके अलावा जब कुंभकर्ण को ब्रह्मा जी से हमेशा के लिए नीदं में सो जाने का वरदान मिला था तब रावण (Ravana) ने वापस तपस्या करके इसकी अवधि को 6 महीने किया था जिससे पता चलता है कि उसको अपने भाई बहनों और पत्नी की कितनी फ़िक्र थी | भारत और श्रीलंका में ऐसी कई जगहे है जहा पर रावण की पूजा होती है |

  16. कुछ लोग ऐसा मानते है कि लाल किताब का असली लेखक रावण ही था | ऐसा कहा जाता है कि रावण अपने अहंकार की वजह से अपनी शक्तियों को खो बैठा था और उसने लाल किताब का प्रभाव खो दिया था जो बाद में अरब में पायी गये थी जिसे बाद में उर्दू और पारसी में अनुवाद किया गया था |

  17. रावण बाली से एक बार पराजित हो चूका था | कहानी इस पप्रकार है कि बाली को सूर्यदेव का आशीर्वाद प्राप्त था और रावण शिवजी से मिले वरदान के अहंकार से बाली को चुनौती दे बैठा | बाली ने शूरुवात ने ध्यान नही दिया लेकिन रावण ने जब उसको ज्यादा परेशान किया तो बाली ने रावण के सिर को अपनी भुजाओं में दबा लिया और उड़ने लगा | उसने रावण को 6 महीने बाद ही छोड़ा ताकि वो सबक सीख सके |

  18. राम जी को जब रावण को हरान के लिए समुद्र पार कर लंका जाना था तो जब काम शुरू करने के एक रात पहले उन्होंने यज्ञ की तैयारी की और रामेश्वरम में भगवान शिव की आराधना करने का निश्चय किया | अब जब वो सबसे शक्तिशाली व्यक्ति से युध्ह करने को जा रहे थे तो यज्ञ के लिए भी उनको एक विद्वान पंडित की आवश्कता थी | उन्हें जानकारी मिली कि रावण खुद एक बहुत बड़ा विद्वान है | राम जी ने रावण को यज्ञ के लिए न्योता भेजा और रावण शिवजी के यज्ञ के लिए मना नही कर सकता था | रावण रामेश्वरम पहुचा और उसने यज्ञ पूरा किया | इतना ही नही जब यज्ञ पूरा हुआ तब राम जी ने रावण से उसीको हराने के लिए आशीर्वाद भी माँगा और जवाब में रावण ने उनको “तथास्तु ” कहा था |

  19. लंका का निर्माण विश्वकर्मा जी ने किया था और जब उस पर रावण के सौतेले भाई कुबेर का कब्जा था | जब रावण तपस्या से लौटा था तब उसने कुबेर से पुरी लंका छीन ली थी | ऐसा कहा जाता है उसके राज में गरीब से गरीब का घर भी उसने सोने का कर दिया था जिसके कारण उसकी लंका नगरी में खूब ख्याति थी |

  20. दक्षिणी भारत और दक्षिण पूर्वी एशिया के कई हिस्सों में रावण (Ravana) की पूजा की जाती है और अनेको संख्या में उसके भक्त है | कानपुर में कैलाश मन्दिर में साल में एक बार दशहरे के दिन खुलता है जहा पर रावण की पूजा होती है | इसके अलावा रावण को आंध्रप्रदेश और राजस्थान के भी कुछ हिस्सों में पूजा जाता था |

29 COMMENTS

  1. Youre so cool! I dont suppose Ive learn something like this before. So nice to seek out anyone with some authentic thoughts on this subject. realy thank you for starting this up. this website is something that is wanted on the net, someone with a little originality. helpful job for bringing something new to the internet! Beilul Hersh Jollenta

  2. Everything is very open with a really clear description of the challenges. It was truly informative. Your website is extremely helpful. Thanks for sharing. Harriett Ambrosi Alodie

  3. Virality iPhone monetization burn rate seed money buzz social media. Handshake bandwidth venture responsive web design hackathon. Graphical user interface influencer branding mass market business-to-consumer buzz vesting period seed round. Partner network ecosystem stock freemium. Joice Hastings Elisa

  4. I in addition to my guys came checking out the good items located on your site then at once developed a horrible feeling I never thanked the web site owner for them. The young boys were consequently thrilled to read through them and have in effect definitely been enjoying these things. Appreciate your truly being well considerate and for figuring out certain exceptional subject areas most people are really wanting to be aware of. Our honest apologies for not expressing appreciation to sooner. Ardelle Philbert Beck

  5. Nullam convallis, dolor et volutpat gravida, neque ligula malesuada ligula, mollis blandit purus lacus vitae ex. Aliquam a tortor nibh. Mauris nec diam ex. Arlie Jarred Carpio

  6. Do you have a spam problem on this website; I also am a blogger, and I was wanting to know your situation; many of us have developed some nice practices and we are looking to swap strategies with other folks, be sure to shoot me an email if interested.| Lanni Terrell Echikson

  7. Planning to defer CPP until 70, at least that is the plan. My wife and I are turning 62 next year. As long as we can get buy without CPP and we are healthy we will defer maximizing our future CPP benefits. Gilberta Harwilll Laraine

  8. Hi there. I discovered your web site by way of Google whilst searching for a comparable subject, your website came up. It seems to be good. I have bookmarked it in my google bookmarks to visit then. Alana Marshal Goldstein

  9. Great blog here! Also your site loads up fast! What host are you using? Can I get your affiliate link to your host? I wish my website loaded up as fast as yours lol| Raquel Jamal Samau

  10. Having read this I believed it was really enlightening. I appreciate you finding the time and energy to put this article together. I once again find myself spending way too much time both reading and commenting. But so what, it was still worth it! Katrina Wallas Ellicott

  11. Do you have a spam problem on this website; I also am a blogger, and I was wanting to know your situation; we have developed some nice procedures and we are looking to trade methods with other folks, why not shoot me an email if interested.| Julee Barnie Allistir

  12. Greetings, I do think your site could be having web browser compatibility issues. Whenever I look at your site in Safari, it looks fine but when opening in Internet Explorer, it has some overlapping issues. I merely wanted to give you a quick heads up! Aside from that, fantastic site! Beverly Johnny Gavriella

  13. I loved as much as you will receive carried out right here. The sketch is attractive, your authored material stylish. nonetheless, you command get got an shakiness over that you wish be delivering the following. unwell unquestionably come more formerly again as exactly the same nearly very often inside case you shield this increase. Antonina Edgard Quitt

  14. Hey Josh, it was just a recommendation. But you are right, I also like it if we add it to the same object. You can always do it like this. No problem. Kylie Sayers Shellie

  15. I just could not depart your site prior to suggesting that I really loved the usual info a person supply in your guests? Is gonna be again incessantly in order to inspect new posts. Kirsti Hillel Milka

  16. If you need a sum coins, you should visit payday loans online 24/7 service. In 2020 a lot of people lost darling work. That is why a certain percentage of them are without incomes. When you want to search a new employment, but in your city lockdown, the best way to use payday loans. Tedi Herbert Alyce

  17. Everything is very open with a precise clarification of the issues. It was really informative. Your website is very useful. Thank you for sharing. Moina Georgy Tay

  18. Hello! I simply would like to give you a big thumbs up for the excellent information you have right here on this post. I am returning to your web site for more soon. Rayna Samuele Ingvar

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!