जानिए सिकंदर का भारत पर आक्रमण और परिणाम

भारत के पश्चिचमोत्तर प्रान्त पर सिकंदर का आक्रमण लगभग 327 ई. पूर्व मे हुआ था। सिकंदर प्राचीन यूनान देश के एक छोटे से राज्य मैसिडोनिया (मकदूनिया) के राजा फिलिप का पुत्र और और महान दार्शनिक अरस्तु का शिष्य था। सिन्दकर जब सिंहासन पर बैठा तो अपने छोटे से राज्य से संतुष्ट नही हो सका। यद्यपि उसके पिता ने सम्पूर्ण यूनान को पहले ही जीत लिया था। उसके ह्रदय मे साम्राज्य विस्तार की महानतम महत्वाकांक्षा उत्पन्न हुई।सिन्दकर पहला ऐसा यूरोपीय शासक था, जिसने भारत मे आक्रमणकारी के रूप मे प्रवेश किया। इसमे कोई संन्देह नही है की सिकन्दर अपने समय (चौथी शताब्दी ईसवीं पूर्व) का एक सेनानायक था, जिसने पूर्व की ओर सफल आक्रमण किए और एक विशाल साम्राज्य की स्थापना की। अफ्रीका और एशिया के अनेक शक्तिशाली राज्य सिकन्दर के आक्रमण के प्रहार से ध्वस्त हो गए। ईसवीं पूर्व 334 मे सिकंदर एक विशाल और शक्तिशाली सेना के साथ अपने देश से रवाना हुआ। इसके बाद सिकंदर ने ईरान के शक्तिशाली साम्राज्य पर आक्रमण किया। ईरान का सम्राट डेरिवस, सिकंदर द्वारा तृतीय अरवेला के निर्णायक युद्ध मे परास्त हुआ। ईसवी पूर्व 330 मे सिकंदर ने सम्पूर्ण ईरानी साम्राज्य पर अपना अधिकार कर लिया था।

329 ईसवी पूर्व के आस-पास सीस्तान पर अधिकार करके वह दक्षिण अफगानिस्तान मे प्रविष्ट हुआ। यहाँ उसने अलेक्जेंड्रिया नगर बसाया इसे अब कान्धार कहा जाता है। इसके बाद वह हिन्दूकूश पर्वत को पार करता हुआ निकाइया पहुँचा। यहीं से उसने सेना के दो भाग किये एक को उसने हेफीस्तियन और परिक्रस नामक सेनानियों से सुपुर्द किया और उन्हें सिंधु नदी पर सेतु बाँधने को भेजा और दूसरी सेना को स्वयं लेकर वह भारतीय सीमा की ओर बढ़ा।

सिकंदर का भारत पर आक्रमण

1.  भारत की दशा

सिकंदर के आक्रमण के समय उत्तर-पशिचमी भारत, पंजाब तथा सिन्ध अनेक छोटे-छोटे राज्यों मे बंटा हुआ था। इनमे आपसी घोर शत्रुता और मतभेद थे। इस समय तक्षशिला का राजा आम्भी और पंजाब के राजा पोरस अधिक शक्तिशाली थे, मगध मे नन्दवंश का शासक था मगध भी शक्तिशाली राज्य था। सिंध मे कई छोटे-छोटे राज्यों को पराजित करने मे सिकन्दर को किसी प्रकार की कठिनाई नही हुई इन्हें उसने आसानी से पराजित कर दिया।

2. विश्वसघाती आम्भी और सिकंदर 

अफगानिस्तान पर विजय प्राप्त करने के पश्चात सिकंदर 326 ई. पूर्व. मे सिन्धु नही को पार किया और तक्षशिला राज्य की सीमा पर जा पहुंचा। वहां के शासक आम्भी ने सिकन्दर के साथ मित्रता कर अपनी मातृ भूमि के साथ विश्वासघात कर लीया। यही नही उसने सिकंदर को प्रेरित किया कि वह पंजाब के शासक पोरस पर आक्रमण करे।

3. वीर पोरस और सिकंदर 

तक्षशिला से आगे बढ़कर सिकंदर झेलम और चिनाव नदी के बीच बसे पूरू राज्य के नजदीक पहुंच गया। उसने देखा कि पोरस एक शक्तिशाली सेना के साथ युद्ध के लिए तैयार है। सिकन्दर के लिए नदी पार करना कठिन हो गया। दोनों सेनाएँ नदी के दोनों पार खड़ी-खड़ी दाँव-पेंच खेलती रही। सिकन्दर को नदी पार करने का रास्ता नही मिल रहा था, परन्तु उसने रास्ता चुनने की कोशिश की। रात के अंधेरे मे जब आँधी और बर्षा बहुत तेज थी तब सिकन्दर ने अपने हजार योद्धाओं के साथ झेलम नदी पार कर ली। पोरस को जैसे ही इसकी खबर मिली तो उसने अपने पुत्र को एक सेना की टुकड़ी के साथ भेजा। सिन्दकर ने इस सेना को परास्त कर दिया। पोरस का पुत्र वीरगति को प्राप्त हो गया। इसके बाद पोरस स्वयं एक विशाल सेना को लेकर सिकन्दर के विरूद्ध युद्ध करने के लिए आगे चल पड़े।

पोरस की सेना मे 50 हजार पैदल, तीन हजार घोड़े पर सवार सैनिक और 1 हजार रथ और 200 हाथी थे। पोरस और उसके सैनिकों ने बहुत बहादूरी से युद्ध किया, लेकिन अन्त मे पोरस का भाग्य इस तरह खराब निकला, पहला सिकन्दर की सेना नदी पार करके सिकंदर के पास आ गयी थी, दूसरा कारण यह था कि उस दिन बारिश बहुत हुई जिसने पोरस की सेना को थका दिया। पोरस अन्तिम समय तक लड़ते रहे, और अंत वह पराजित हो गये और उन्हे बंदी बना लिया गया।

जब सिकंदर ने पोरस को बंदी बनाकर पूछा कि ” तुम्हारे साथ किस प्रकार का व्यवहार करना चाहिए” तो पोरस ने उत्तर दिया-,” जिस प्रकार एक वीर राजा दूसरे वीर राजा के साथ करता है,” इस उत्तर को सुनकर सिकंदर बड़ा प्रसन्न हुआ और उसने पोरस मे क्षमा करते हुए उसका राज्य भी उसे लौटा दिया।

पोरस से युद्ध के बाद सिकंदर ने दो नगरों का निर्माण कराया। विजय के उपलक्ष्य मे ” निकाय ” और अपने प्रिय घोड़े की स्मृति मे ” बुकाफेला ” का निर्माण किया गया। पोरस के युद्ध के बाद उसने एक अन्य पोरस का भजीजा था, उसे परास्त कर विजय प्राप्त की। 326 ई. पू. के अंत मे रावी नदी पार करके अधृश्ट जाति के मुख्य नगर प्रिम्प्राश को जीता। इसके बाद सिकंदर पूरब की ओर बढ़ा। चेनाव नदी के पश्चिमी तट पर ग्लोगनिकरि जाति का गणराज्य था उसे भी परास्त कर विजय प्राप्त की।

4. सिकंदर का वापस लौटना 

राजा पोरस और अन्य विजय के बाद सिकंदर की सेना का उत्साह क्षीण पड़ चुका था। इसी समय विजित प्रदेशों मे और अभिसार मे विद्रोह होने लगे। फिर भी सिकंदर ने 326 ई. पूर्व मे प्रिंप्रमा, अद्रष्ट, कठ गणराज्यों पर असफल आक्रमण किये तब पोरस की सहायता प्राप्त करके इन राज्यों पर आधिपत्य स्थापित किया। सौभूति भी पराजित हुये। परन्तु इन संघर्षों से सिकंदर और उसकी सेनाओं को भली-भाँती पता चला गया कि भारत मे और अधिक आगे जाने से जीवन और साम्राज्य दोनों ही हाथ से जाने का खतरा है। जब वह सेना लेकर व्यास नदी के तट पर पहुंचा तो सिपाहियों ने आगे बढ़ने से साफ इन्कार कर दिया। यद्यपि सिकन्दर ने विजयों के लिये उन्हें प्रोत्साहित किया, लोभ दिखाया परन्तु सभी व्यर्थ सिद्ध हुआ। विवश होकर सिकन्दर को वापस लौटना पड़ा। वासप लौटते हुए उसने विजित प्रदेशों की शासन व्यवस्था भी की। झेलम और व्यास के बीच का प्रदेश पोरस को सौंपा दिया और सिन्धु झेलम के दोआब को तक्षशिला के राजा आम्भी कुमार को दे दिया। सिन्धु नदी के पश्चिम का क्षेत्र फिलिप नामक क्षत्रप के अधीन कर दिया। उसने अपने विजित प्रदेशों मे बहुत अधिक संख्या मे यवन सैनिक नियुक्त कर दिये। इसके बाद वह वापस जाने के लिए आगे बढ़ा। उसने अपनी सेना को दो भागों मे विभाजित किया-,” एक भाग जल मार्ग से पश्चिम की ओर चला और दूसरा भाग सिकन्दर के साथ स्थल मार्ग से बिलोचिस्तान होता हुआ फारस पहुंचा।

5. सिकंदर की मृत्यु 

सिकंदर एक ऐसे देश से होकर चल रहा था जहां पर उसकी सेना और अन्य साथियों को गर्मी और प्यास से अनेक कष्ट उठाने पड़े और उनमे से कई मर गये। जब सिकंदर अपनी सेना के साथ 323 ई. पूर्व मे बेबीलोन नामक एक जगह पर पहुंचा तो यहां उसे ज्वर ने आ घेरा और 323 ई. पूर्व मे उसका निधन हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!