इस योजना की किस्त मिलने तक की पूरी जानकारी:-

PM किसान योजना भारत सरकार की एक पहल है जिसमें 12 करोड़ छोटे और सीमान्त किसान जिनके पास 2 हेक्टेयर से कम भूमि है.  उन्हें न्यूनतम आय सहायता के रूप में प्रति वर्ष 6 हजार रूपए तक मिलेगा.  ₹ 6000 प्रति वर्ष प्रत्येक पात्र किसान को तीन किश्तों में भुगतान किया जाएगा और सीधे उनके बैंक खातों में जमा किया जाएगा.  योजना की शुरुआत वर्ष 2018 से की गई है.

 

PM किसान योजना पर सालाना खर्च:-

इस योजना पर सालाना खर्च 75 हजार करोड़ रुपये आने का अनुमान है.  छोटे किसानों के लिए योजना अत्यन्त उपयोगी सिद्ध होने वाली है.  बुवाई से ठीक पहले नगदी संकट से जूझने वाले किसानों को इस नगदी से बीज, खाद और अन्य इनपुट की उपलब्धता में सहायता मिलेगी.  इन छोटे किसानों में ज्यादातर सीमान्त हैं जिनका खेती से पेट भरना मुश्किल है.  इस योजना का लाभ दो हेक्टेयर खेती वाली जमीन से कम वाले किसानों को दिए जाने का प्रावधान है.

किस किस को मिलेगा PM किसान योजना का लाभ:-

इस योजना के तहत जारी रकम किसानों को ठीक से पहुंचने की जांच करेगी. PMkisan योजना में किसानों को सालाना 6,000 रुपये दिए जाते हैं.  जांच के जरिए इस योजना में कैश ट्रांसफर में किसी तरह की दिक्कत तो नहीं है.

इसके लिए 5 फीसदी लाभार्थी किसानों की हर राज्य में बिना क्रम से जांच होगी.  इस मामले से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक जांच इस बात की भी की जाएगी.  इसमें हर राज्य से 5 फीसदी किसान बिना किसी क्रम के चुने जाएंगे.  और राज्य के नोडल अधिकारी इनकी सत्यता जानने के लिए भौतिक तौर पर वेरिफिकेशन करेंगे. उन्हें 45 दिनों में रिपोर्ट जमा करनी होगी.

इस योजना में कितना काम हो चूका:-

मोदी सरकार ने 6.29 करोड़ किसानों को पहली किश्त के 2,000 रुपये उनके बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए हैं.  PM किसान योजना के तहत देश के करीब 7 करोड़ किसान को मदद दी जानी है.  अधिकतर राज्यों में लाभार्थी किसानों की संख्या साल 2015-16 की कृषि जनगणना के मुताबिक तय की गयी है.  हालांकि पंजाब में लाभार्थियों की संख्या वहां के किसानों की जनसंख्या से ज्यादा है अधिकारी के मुताबिक ऐसा क्यों है इसकी जांच की जाएगी.

लाभ उठाने की वाले किसानों की संख्या कितनी है:-

वास्तव में पंजाब में इस योजना का लाभ उठाने की वाले किसानों की संख्या 14.5 लाख है.  यह संख्या साल 2015-16 की कृषि जनगणना में शामिल किसानों से 28 फीसदी ज्यादा है.  अधिकारी के मुताबिक आंकड़ों में बड़ा अंतर है इस प्रक्रिया में कहां गलती हुई है इसे देखा जाएगा.  उन्होंने कहा हम जो फिजिकल वेरिफिकेशन करेंगे उससे कुछ संकेत मिल सकते हैं.  पीएम किसान योजना में सबसे ज्यादा किसानों को फायदा उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में मिला है.

कैसे होगा इसके लिए अप्लाई – क्लिक करे 

Click Hare Download Information Application

पीएम किसान योजना का लाभ उठाने से अब तक वंचित किसान अब पीएम किसान योजना के पोर्टल www.pmkisan.gov.in पर खुद अपना पंजीकरण कर सकते हैं.  इसके अलावा आधार सत्यापन की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं.  गुरुवार को केंद्र सरकार ने योजना के अंतर्गत आवेदन करने वाले किसानों को अपने आवेदन के स्टेटस देखने की सुविधा उपलब्ध कराई थी.

किन-किन कागज की आवश्यकता होगी:-

आवेदन के लिए खतौनी की नकल आधार कार्ड व बैंक पासबुक की छाया प्रति देनी होगी.  इसका भी ध्यान रखना होगा कि बचत खाता और आधार कार्ड दोनों आपस में लिंक हो.  गए हो बेनिफिशियरी स्टेटस लिंक की मदद से लाभार्थी किसान के आवेदन का स्टेटस देखा जा सकता है.  इसके लिए लाभार्थी किसान का मोबाइल नम्बर आधार कार्ड नम्बर या उसके बचत खाते का नम्बर चाहिए.

पैसा नहीं मिला तो यहां करें कॉल:-

इस योजना की तीसरी किस्त नहीं मिली है तो पोर्टल पर स्टेटस चेक करें। केंद्रीय कृषि मंत्रालय के किसान हेल्प डेस्क को ई-मेल Email -pmkisan-ict@gov.in पर करें। डायरेक्ट हेल्पलाइन के नंबर 011-23381092 पर कॉल कर अपनी समस्या बताएं.

 

 

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!