Motivational Story: एक बार की बात है एक गांव में एक 10-12 साल का लड़का अपने पिता के साथ रहता था, तो एक दिन वह लड़का कई सालों के बाद अपने दादाजी के गांव जाता है वहां जाकर वह हर समय अपने दादाजी के साथ खेलता है, तो खेलते खेलते उसने एक दिन अपने दादाजी से कहा के दादाजी जब मैं बड़ा हो जाऊंगा तो मैं बहुत ज्यादा सक्सेसफुल बन कर दिखाऊंगा क्या आप मुझे कामयाब बनने के लिए कुछ तरीके बता सकते हैं तो उसके दादाजी मुस्कुराते हुए उसकी तरफ देखते हैं और उसको हां कहते हैं.

तभी वे उस लड़के को एक पौधों की दुकान पर लेकर जाते हैं जहां पर छोटे-छोटे पौधे मिलते थे वहां से उसके दादाजी दो छोटे पौधे खरीदतें हैं, और वापस घर आ जाते हैं घर आने के बाद वह उनमें से एक पौधे को बड़े से गमले में लगा देते हैं और उस गमले को घर के अंदर सुरक्षित रख देते हैं, और दूसरे पौधे को वह घर से बाहर लगा देते हैं फिर वह अपने पोते से पूछते हैं कि तुम्हें क्या लगता है की कौन सा पौधा फ्यूचर में अच्छे से बड़ा हो पाएगा.

बच्चे ने थोड़ा सोचा और अपने दादाजी से कहा कि हमने घर के अंदर जो पौधा लगाया है वह अच्छे से बड़ा हो पाएगा क्योंकि वह घर के अंदर हर प्रॉब्लम से सेफ रहेगा और जो पौधा हमने घर से बाहर लगाया है उसे बहुत सी चीजों का रिस्क है जैसे कि सूरज की तेज किरणें आंधी तूफान तेज बारिश यहां तक कि उसे किसी जानवर से भी खतरा है.

इतनी बात सुनकर उसके दादाजी ने मुस्कुराया और उससे कहा कि फ्यूचर में देखते हैं इन दोनों पौधों के साथ क्या होता है फिर 4 साल बाद वह लड़का फिर से अपने दादाजी के घर जाता है दादाजी को देखने के बाद वह फिर से उनसे पूछता है की दादाजी लास्ट टाइम मैं आपसे पूछा था की जिंदगी में सक्सेसफुल कैसे होते हैं लेकिन आपने मुझे कुछ नहीं बताया था, लेकिन अब आपको मुझे बताना ही पड़ेगा उसके दादाजी ने मुस्कुराते हुए उससे कहा जरूर लेकिन सबसे पहले हम उन दोनों पौधों को देखते हैं जो हमने कुछ साल पहले लगाए थे.

यह कहकर उसके दादाजी उसे उसी जगह पर ले गए जहां उन्होंने घर के अंदर जो पौधा रखा था उन्होंने देखा कि वह पौधा पहले से बड़ा पौधा बन चुका था फिर वह उसे जगह पर गए जहां उन्होंने दूसरे पौधे को बाहर लगाया था, उन्होंने देखा कि वह छोटा सा पौधा अब एक बहुत बड़ा और विशाल पेड़ बन चुका था उसकी जो टहनियां थी वह बहुत मजबूत और लंबी थी और उसका साया पूरे ग्राउंड पर पढ़ रहा था अब उस लड़के के दादाजी ने उसकी तरफ देखा और उससे कहा की बताओ कौन सा पौधा ज्यादा बड़ा और मजबूत हो चुका है, बताओ कौन सा पौधा ज्यादा सक्सेसफुल हुआ है.

लड़के ने कहा वह पौधा जो हमने बाहर लगाया था लेकिन दादाजी यह कैसे संभव है इस पौधे ने कई डेंजरस सिचुएशन सही होगी इस पर कई प्रॉब्लम आई होगी लेकिन फिर भी यह पौधा इतना बड़ा पेड़ कैसे बन गया उसके दादाजी ने उसकी तरफ देखा और कहा तुमने ठीक कहा जो पौधा हमने बाहर लगाया था उसने कई प्रॉब्लम सही होगी और उन प्रॉब्लम्स का सामना करते हुए वह इतना बड़ा और विशाल हो पाया है और अब बो जितना चाहे उतना अपनी टहनियों को बड़ा कर सकता है और जो आंधी तूफान और तेज बारिश जैसी प्रॉब्लम है वह उसकी टहनियों को और भी ज्यादा मजबूत बनाती है और इसी वजह से आज वह एक बहुत विशाल पेड़ बन चुका है.

अब यह सारी प्रॉब्लम्स उसके सामने छोटी है फिर उसके दादाजी ने उसकी तरफ देखा की बेटा एक चीज हमेशा याद रखना जब तक तुम अपनी लाइफ में स्ट्रगल नहीं करोगे जब तक तुम डिफिकल्टी से नहीं गुजारोगे जब तक तुम सारी दिक्कतों का सामना नहीं करोगे तब तक तुम अपनी लाइफ में सक्सेसफुल इंसान नहीं बन सकते हो अगर तुम अपनी लाइफ में हमेशा कंफर्टेबल च्वाइस को ही रखोगे तो तुम अपनी लाइफ में उतना ग्नरो नहीं कर पाओगे जितना कि तुम करना चाहते हो और अगर तुम हर प्रॉब्लम के लिए तैयार रहोगे हमेशा स्ट्रगल के लिए रेडी रहोगे तो फिर किसी भी मंजिल को पाना तुम्हारे लिए असंभव कभी नहीं होगा.

और फिर बड़ी-बड़ी प्रॉब्लम तुम्हें छोटी लगने लगेगी यह सुनने के बाद उस लड़के ने एक गहरी सांस ली और फिर उस विशाल और बड़े पेड़ की तरफ बो देखने लगा उसके दादाजी के शब्द उसकी दिमाग में घूम रहे थे.

दोस्तों प्रॉब्लम्स रुकावट डिफिकल्टी इन सभी को हम अपनी जिंदगी के दुश्मन समझते हैं लेकिन यही रुकावट है यही डिफिकल्टी जो हमें स्ट्रांग बनाने में हमारी मदद करती है, और अपनी जिंदगी में ज्यादा सक्सेसफुल बनती है और वह किसी ने कहा है ना की अगर आपकी लाइफ में प्रॉब्लम्स नहीं आ रही है तो समझ जाओ कि आप गलत रास्ते पर हो तो दोस्तों अगर आप इस मोटिवेशनल कहानी को और भी लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं. तो इस लेख को करिये, कहानी अगर अच्छी लगी हो तो चैनल को सब्सक्राइब जरूर करें मिलता हूं मैं अगली बार इसी तरह की और एक नई कहानी के साथ तब तक आप अपना और अपने परिवार का ध्यान रखिए और हमेशा मुस्कुराते रहिए…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here